Banner 1
Banner 2

सरस्वती पूजन on 05 Oct 2019 (Saturday)

1. सरस्वती पूजा को सरस्वती प्रधान पूजन के नाम से भी जाना जाता है| सरस्वती पूजन के दिन सभी लोग माँ का पूजन कर उनका आशीर्वाद पाते है|
2.
दुर्गा पूजा के दूसरे दिन मनाये जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण व् खूबसूरत पर्व है जो की विजयदशमी जैसे पावन अवसर पर मनाया जाता है|
3.
सरस्वती पूजन नवरात्री में से एक दिन मनाये जाने वाला शुभ दिन है और यह शीत ऋतू के आने का भी संकेत देती है|
4.
पूरे भारत में यह पर्व श्रद्धालुओं के बीच बहुत ही उत्साह व् उमंग के साथ मनाया जाता है|
5.
भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार माँ सरस्वती जल की देवी मानी जाती हैं अथवा इन्हे पवित्रता व् सम्पन्नता के लिए पूजा जाता है| माँ सरस्वती ने ही संस्कृत भाषा को बनाया था, जो की हमारे शास्त्रों, विद्वानों व् ब्राह्मणो द्वारा इस्तेमाल की जाती है|

सरस्वती पूजन विधि
1.
सूर्य उदय के पूर्व उठ नहाने के जल में गंगाजल मिला कर स्नान करें|
2.
सबसे पहले सूर्य को सदा जल अर्पित करें|
3.
सरस्वती आवाहन के दिन स्थापित की गई माँ की मूर्ति को प्रणाम करें|
4.
माँ के चरण धोये व् उनका श्रृंगार भी करें|
5.
माँ के आगे घी का दीपक लगाएं व् धूप अगरबत्ती भी लगाएं|
6.
माँ को सफ़ेद व् पीले फुओं की माला अर्पित करें|
7.
माँ को सफ़ेद मिष्ठानो का भोग भी लगाएं|
8.
माँ की स्तुति से अपनी पूजा की शुरुआत करें|
9.
आखिर में माँ की आरती अवश्य करें|