Banner 1
Banner 2

जानिए कैसे मनाते हैं आदि पेरुक्कु का त्यौहार on 02 Aug 2020 (Sunday)

जानिए कैसे मनाते हैं आदि पेरुक्कु का त्यौहार 

आदि पेरुक्कु का त्यौहार समृद्धि और उर्वरता का त्योहार, है. यह त्यौहार मुख्य रूप से तमिलनाडु में मनाया जाता है. आदि पेरुक्कू का पर्व तमिल महीने के दौरान आता है. यह  पर्व बारिश के मौसम के आरम्भ का और समृद्धि का प्रतीक है. आदि पेरुक्कु पर्व को आदी मानसून त्योहार के रूप में भी जाना जाता है. यह पर्व तमिल महीने के 18 वें दिन मनाया जाता है. शांति, समृद्धि, और खुशी के साथ मानव को आशीर्वाद देने के लिए, मानव पर प्रकृति की कृपा को बरसाने के लिए इस दिन अम्मन देवताओं के रूप में प्रकृति पूजा का आयोजन किया जाता है. इस दिन माँ प्रकृति को अम्मन देवताओं के रूप में पूजा जाता है. यह दिन प्रकृति के आशीर्वाद के लिए धन्यवाद समारोह की तरह मनाया जाता है. आदि पेरुक्कु का महीना तमिलनाडु में मानसून के मौसम की शुरुआत का प्रतीक माना जाता है. इसलिए ये  महीना जड़ों, बुवाई और बीजों और अन्य प्रकार के वनस्पतियों के रोपण के लिए पूरी तरह से अनुकूल होता है. इस दिन झीलों के साथ साथ तमिलनाडु के सभी बारहमासी नदी स्रोतों की पूजा की जाती है. आदि पेरुक्कू को पैर पडिनेटम पेरुक्कू ’भी कहा जाता है. यह पर्व विशेष रूप  से महिलाओं के द्वारा मनाया जाता है.

समारोह और अनुष्ठान:

आदि पेरुक्कु पर्व का पहला दिन आदि पंड़िगै या आदि पिराप्पू के रूप में मनाया जाता है, जो कि एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है, यह दिन विशेष रूप से नए-नए कार्यों के लिए उत्तम माना गया है. इस दिन सभी महिलाएं अपने घर के दरवाजे को आम के पत्तों से सजाती है. इसके साथ ही इस पर्व के दिन नारियल के दूध और वडाई से तैयार 'पायसम' नामक व्यंजन बनाया जाता है और इसी के साथ भगवान् की एक विशेष पूजा की जाती है. पेरक्कु एक महीना होता है जिसमे जल-बल और प्राकृतिक शक्तियों की प्रार्थना की जाती है. इस दिन नदियों की प्रार्थना की जाती है जिससे जीवन में सुख और समृद्धि आती है. ऐसा माना जाता है की आदि पेरुक्कु पर्व के महीने में चावल और गुड़ से बनी एक मिठाई का प्रसाद चढाने से कुंवारी कन्याओं को अच्छे पति की प्राप्ति होती है. इस दिन सभी लोग अपने परिवार के साथ नदी के किनारे बिताते हैं. इस दिन भगवान विष्णु और भगवान कुबेर के साथ, देवी लक्ष्मी की पूजा भी की जाती है.

आदि पेरुक्कु पूजन विधि-

आदि पेरुक्कू के दिन, महिलाएं देवी पार्वती की पूजा करती हैं. इस दिन अलग अलग प्रकार के चावल से बने व्यंजन जैसे- नारियल चावल, मीठा पोंगल, दही चावल, बहला चावल, नींबू चावल और इमली चावल बनाये जाते है और देवी को चढ़ाए जाते हैं. इस दिन सभी भक्त चावल के प्रसाद, अक्षत और फूलों से पवित्र नदी कावेरी की भी पूजा करते हैं. इस अवसर पर, लोग अच्छी फसल के लिए आंतरायिक आपूर्ति के लिए प्रार्थना करते हैं. इस पर्व के अवसर पर श्रद्धालु पवित्र जल में डुबकी लगाते हैं और स्नान घाटों पर अनुष्ठान करने से पहले नए कपड़े पहनते हैं. इसके बाद कावेरी अम्मान का 'अभिषेकम' किया जाता है. गुड़ और चावल के आटे से एक दीपक तैयार किया जाता है. इसे आम के पत्तों पर रखा जाता है. एक पीला धागा, हल्दी, और फूल मिलाए जाते हैं. यह दीपक महिलाओं द्वारा जलाया जाता है और नदी में प्रवाहित किया जाता है. इस दिन चावल के द्वारा एक विशेष व्यंजन 'कलंधा सद्दाम' बनाया जाता है. पूजा पूरी करने के बाद, भक्त अपने परिवार के साथ नदी के किनारे भोजन करते हैं. यह दिन कावेरी नदी के तट पर पिकनिक की तरह मनाया जाता है.

आदि पेरुक्कु का महत्व:

आदि पेरुक्कु एक तमिल महीना है जो जल सेना और अन्य प्राकृतिक बलों को समर्पित है. आदि महीने के दौरान देवी देवताओं को धन्यवाद देने के लिए और अशुभ पहलुओं से सुरक्षा प्राप्त करने के लिए प्रार्थना की जाती है. मान्यताओं के अनुसार दैवीय शक्ति के साथ संबंध बनाने के लिए आदि महीना बहुत शुभ होता है. आदी पेरुक्कू के त्यौहार का राजाओं के शासन के समय से मनाया जाता है.

तमिल महीना आदी, तमिलनाडु में मानसून की शुरुआत का प्रतीक है. इस महीने के दौरान, मानसून के कारण नदियों में जल स्तर बढ़ जाता है. प्रकृति के प्रति अपनी कृतज्ञता दिखाने के लिए और माँ कावेरी नदी को धन्यवाद देने के लिए, आदिपरुकु का पर्व मनाया जाता हैं. आदिपेरुक्कू एक अद्वितीय दक्षिण भारतीय और विशेष रूप से तमिल राज्य में मनाया जाने वाला त्योहार है, जिसे तमिल महीने के 18 वें दिन  में मनाया जाता है.आदिपेरुक्कू का पर्व हर साल 2 या 3 अगस्त को पड़ता है.  महिलाओं द्वारा मनाए जाने वाले आदि पेराकु के पर्व के दिन जल-अनुष्ठान के रूप में, प्रकृति का सम्मान किया जाता है. इस शुभ दिन में, देवी पार्वती देवी की पूजा अलग-अलग चावल के व्यंजनों से की जाती है. फूल, अक्षत और चावल का प्रसाद कावेरी जैसी पवित्र नदियों में चढ़ाया जाता है. पुराण के अनुसार, जब पार्वती देवी ने दिव्य दृष्टि से देखने के लिए भगवान शिव का ध्यान किया तब भगवान शिव शंकर-नारायण स्वामी के रूप में प्रकट हुए. ऐसा माना जाता है कि श्री भोमा देवी का अवतार भी इसी महीने में हुआ था.