Banner 1
Banner 2

नरसिंह जयंती on 06 May 2020 (Wednesday)

नरसिंह जयंती का महत्व- 

• शास्त्रों के अनुसार नरसिंह जयंती का व्रत करने से ब्रहम हत्या का दोष खत्म हो जाता है. 

• जो भी व्यक्ति नरसिंह जयंती का व्रत रखता है वह सांसारिक सुखों को भोग कर मोक्ष प्राप्त करता है. इसके अलावा जो मनुष्य नरसिंह चतुर्दशी का व्रत करता है वह सात जन्मो तक पापों से मुक्त हो जाता है और अपार धन संपत्ति का मालिक होता है. 

• जो भी व्यक्ति भक्ति पूर्वक नरसिंह जयंती की आत्मकथा सुनता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. 

• नरसिंह चतुर्दशी के दिन मध्यान्ह काल में जो भी व्यक्ति क्षमता अनुसार व्रत का अनुष्ठान करता है और लीलावती देवी के साथ हरित मुनि और भगवान नरसिंह की पूजा-अर्चना करता है उस व्यक्ति को सनातन मोक्ष मिलता है.

• दान देने के पश्चात सूर्यास्त के समय मंदिर में जाकर आरती करने के बाद पारण करना चाहिए. भगवान नरसिंह का व्रत करने से मनुष्य के जीवन के सभी कष्ट दूर हो जाते हैं.

 

मनचाहा फल प्रदान  करता है नरसिंह व्रत

भगवान नरसिंह को श्री विष्णु का पांचवां अवतार माना जाता हैं. भगवान  विष्णु ने अपने भक्त प्रहलाद की रक्षा करने के लिए  नरसिंह अवतार लिया था. भगवान नरसिंह गोधूलि बेला के समय प्रकट हुए थे. नरसिंह भगवान विष्णु जी का उग्र और शक्तिशाली अवतार माना जाता हैं. भगवान नरसिंह की पूजा व्रत और उपासना करने से मनुष्य के जीवन के सभी प्रकार के संकट दूर हो जाते हैं और दुर्घटना से भी बचाव होता है. इसके अलावा भगवान नरसिंह की पूजा करने से हर प्रकार के मुकदमे, दुश्मन और विरोधी शांत हो जाते हैं, और साथ ही सभी प्रकार की तंत्र मंत्र की बाधाएं दूर हो जाती हैं भगवान श्री नरसिंह को शक्ति और पराक्रम का प्रमुख देवता माना जाता है. नरसिंह जयंती वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है. इसी दिन भगवान विष्णु ने नरसिंह का अवतार लेकर खंभे को चीरकर भक्त प्रहलाद की रक्षा की थी. इसीलिए इस दिन बहुत ही धूमधाम से नरसिंह जयंती का उत्सव मनाया जाता है. इस दिन व्रत करने का भी नियम है.  नरसिंह जयंती का व्रत सभी महिलाएं और पुरुष कर सकते हैं. 

भगवान् नरसिंह पूजन विधि