Indian Festivals

धन प्राप्ति के लिए दिवाली पूजन विधि|

सभी लोग दीपावली के मौके पर मां लक्ष्मी की पूजा करके धन की प्राप्ति करना चाहते हैं. आज हम आपको कुछ ऐसी पूजनीय वस्तु के बारे में बताने जा रहे हैं जिनका दीपावली के दिन पूजन करने से विशेष फल प्राप्त होता है. मां लक्ष्मी और गणेश की उपासना सभी लोग करते हैं. इनकी उपासना करने से मन में शांति और घर में सुख और समृद्धि का निवास रहता है. आइए जानते हैं दिवाली के दिन हमें कौन-कौन सी पूजन सामग्रियों की पूजा अर्चना करनी चाहिए. 
 
मां लक्ष्मी यंत्र :-
 
हमारे शास्त्रों में लक्ष्मी यंत्र की महिमा का विस्तृत वर्णन किया गया है. महालक्ष्मी यंत्र लगातार वृद्धि और मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त करने के लिए बहुत उपयोगी होता है. महालक्ष्मी यंत्र की चल और अचल दोनों तरह की पूजा करने का नियम है. मां लक्ष्मी का यंत्र लक्ष्मी प्राप्ति के लिए अचूक उपाय है. महालक्ष्मी यंत्र की कृपा प्राप्त होने से मनुष्य की दरिद्रता दूर हो जाती है और इसकी उपासना करने वाले व्यक्ति को सुख समृद्धि और शांति प्राप्त होती है. महालक्ष्मी यंत्र को सुख देने वाला यंत्र भी माना जाता है. इसकी पूजा करने से गरीब इंसान भी धनवान बन सकता है. आप दीपावली के दिन महालक्ष्मी यंत्र कि अपने नाम और गोत्र से पूजा करके अपने पास रख सकते हैं या अपने पूजा स्थान पर स्थापित कर सकते हैं. महालक्ष्मी यंत्र को स्थापित करने के बाद नीचे दिए गए मंत्र का जाप करना चाहिए
 
ॐ श्रीम ह्रींग श्रीम कमल कमलदये प्रसीद प्रसीद श्रीम ह्रींग श्रीम ॐ महालक्ष्म्यै नमः 
 
कमलगट्टे की बीज:-
 
हमारे शास्त्रों में बताया गया है कि मां लक्ष्मी को कमलगट्टे के बीच अत्यंत प्रिय होते हैं. कमलगट्टे के बीजों को शुद्ध करके माता लक्ष्मी के चरणों में अर्पित करना चाहिए. ऐसा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और धन संपदा का वरदान देती हैं.
 
कौड़ी:-
 
दिवाली के दिन मां लक्ष्मी की उपासना में कौड़ी का खास स्थान है. आप इसे अपने घर या दुकान के गल्ले में रखकर मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त कर सकते हैं.
 
अहोई माता का चित्र:-
 
दीपावली के दिन अपने पूजा स्थान पर अहोई माता का चित्र स्थापित करके उनकी श्रद्धा के साथ पूजा करनी चाहिए. ऐसा करने से मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होती है.
 
मोती शंख:-
 
घर में सुख समृद्धि धन धन्य सभी को अच्छा लगता है| सभी चाहते हैं उनके घर परिवार में सुख समृद्धि बानी रहे निरंतर धन आता रहे| और चातुर्मास के महीने में ऐसे अनेको पर्व आते हैं जब हम माँ लक्ष्मी की कृपा अपने और अपने घर में हमेशा के लिए बनाये रख सकते हैं|

चातुर्मास के कार्तिक महीने में माँ लक्ष्मी का सबसे महत्वपूर्ण पर्व आता है दीपावली| जिसपे सभी लोग यह प्रयास करते हैं की माँ लक्ष्मी उनके जीवन में सदैव के लिए ठहर जाए| और उनके घर से दरिद्रत्ता का हमेशा के लिए सर्वनाश होजाये| इस दीपावली हम ऐसा ही एक कारगर उपाय बताएंगे जिस से आपकी आने वाली सभी दीपावली धन धन्य से भरपूर होगी|

आपने माँ लक्ष्मी के तीन स्वरुप धना लक्ष्मी माँ, विजय लक्ष्मी माँ व् वीरा लक्ष्मी माँ के हाथो में धन व् कमल के साथ शंख भी अवश्य ही देखा होगा| श्री यंत्र के बारे में लग भग सभी लोग जानते भी हैं और पूजा भी करते, परन्तु जो व्यक्ति मोती शंख की पूजा करता है या उसे अपने घर व् व्यापार में स्थापित करता है उसके घर व् व्यापार में लक्ष्मी का निवास हमेशा के लिए होजाता है| जहा मोती शंख की स्थापना होती है वह लक्ष्मी जी का स्थायी निवास होजाता है|

भारतवर्ष में दक्षिणावर्ती शंख का विशेष महत्व जन साधारण में व्यापत है, परन्तु मोती शंख अपने आप में दुर्लभ व् महत्वपूर्ण शंख है|इसकी चमक मोती के सामान है इसलिए इसे मोती शंख का नाम दिया गया है| यह एक गोल अकार का सुन्दर सुरम्य शंख है जो की अपने आप में कईं विशेषताएं समेटे हुए है| यह शंख अलग अलग माप में पाया जाता है, यह प्रकर्ति का वरदान है जो मनुष्य को सहेज ही प्राप्त है|

मोती शंख के अनेको प्रयोग है| इसकी विशेषता यह है की एक साधारण व्यक्ति भी इसका प्रयोग व् उपाय कर बड़ी से बड़ी सफलता प्राप्त कर सकता है| 
 
गोमती चक्र:-
गोमती चक्र एक सफ़ेद समुद्री तत्व की वास्तु है| जो समुद्र मंथन के दौरान उत्तपन हुई थी| ऐसी मान्यता है क्यूंकि यह समुद्र मंथन के दौरान ही उत्पन हुई थी इसलिए यह उन् वस्तुओं में से एक है जो माँ लक्ष्मी की प्रिये वस्तुओं में से हैं| यह एक सफ़ेद रंग का टुकड़ा है जिसका अकार गोल है व् इस्पे चक्र बना होता है| यह प्रकर्ति के द्वारा उत्पन हुई वास्तु है जिसका पदार्थ ठीक कोढ़ियों या शंख वाला पदार्थ है|

इसके कुछ बहुत ही मुख्य उपाय भी है जिसके करने से व्यक्ति के सभी प्रकार के कष्ट संकट दूर किये जा सकते है| परन्तु इसके सही प्रयोग व् विधिवत स्थापना से ही इसका पूर्ण रूप से फायदा लिया जा सकता है|बीमारी, धन, क़र्ज़, सेहत, व्यापार आदि सभी कष्टों से मुक्ति दिलाने का यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण व् सरल उपाय है जिसके सही प्रयोग से हम अपने काफी कष्टों को दूर कर सकते है|