Banner 1
Banner 2

दुर्गा विसर्जन on 08 Oct 2019 (Tuesday)

बंगाल में दशहरा और नवरात्री का पर्व एक बहुत ही अलग और खूबसूरत तरीके से मनाया जाता है| यह बंगाल में मनाये जाने वाला एक बहुत ही महत्वपूर्ण पर्व है|

नौ रात और दस दिनों तक मनाये जाने वाला यह एक बंगाल का ख़ास उत्सव है| इस त्यौहार के लिए सभी लोग बहुत सी तरह तरह की खरीदारियां करते है| चाहे वह घर के लिए हो या त्यौहार को मनाने से जुडी हो| हर दिन एक नए उत्साह, उमंग व् रीती रिवाज़ों के साथ ये पर्व बंगाल में मनाया जाता है| इस पर्व की शुरुआत से ही लोग इसे नाच गा कर मनाते हैं| इन् दिनों को हर दिन एक नए रीती रिवाज़ और परम्पराओं के साथ मनाया जाता है| महालया अर्थात माँ का स्वागत सत्कार ही बहुत धूम धाम से किया जाता है| ऐसी मान्यता है की हर साल माँ दर्शन देने  धरती पर आतीं हैं|

माँ दुर्गा का जनम दैत्य महिषासुर का वध करने के लिए ही हुआ था| सभी देवताओं ने एक एक कर माँ दुर्गा को अपने अस्त्र शास्त्रों का ज्ञान दिया| महालया पर करि जाने वाली प्रारंभिक गतिविधियां यही दर्शाती हैं|नवरात्री के छटे दिन, दैत्य से युद्ध शुरू होने से पहले इन्ही अस्त्र शास्त्रों का पूजा का विधान है|माँ दुर्गा की दैत्य महिषासुर पर जीत अष्टमी तिथि किए दिन हुई थी| और अष्टमी तिथि से ही उत्सव एकदम ज़ोरो शोरो से होने लगते है| यह ख़ुशी व् आनंद माँ के प्रति अपनी श्रद्धा प्रकट करने के लिए, लोग माँ कके उत्सव को पूर्ण धूम धाम व् विधिवत मनाते है|नौवा दिन रामनवमी के रूप में मनाई जाती है| भगवान राम ने भी लंका में रावण का वध करने के लिए युद्ध से पहले माँ की पूजा अर्चना की थी|

दशमी तिथि सबसे महत्वपूर्ण व् बहुत ही रौनक से मनाई जाने वाली तिथि है| इस दिन सभी लोग एक दूसरे को उपहार व् मिठाईयों के साथ बधाईयां देते है|परिवार के सभी सदस्य सजे धजे, बहार पंडालों में लगे मेलों व् माँ के दर्शन को जाते हैं| माँ की विधिवत पूजन कर सभी श्रध्दालु माँ को गाजे बाजों के साथ और बहुत ही धूम धाम से नाचते गाते विसर्जन के लिए लेकर जाते है| और विसर्जन के बात माँ से अगले साल जल्दी आने की भी कामना करते हैं|

विसर्जन विधि:-
  • सूर्य उदय के पूर्व उठ स्नान आदि कर खुद को शुद्ध करलें
  • अब माँ की पूजा उपासना शुरू करें|
  • माँ के चरण धोये गंगाजलं से|
  • माँ को वस्त्र अर्पित करें और उनका श्रृंगार भी करें
  • उन्हें हल्दी कुमकुम का तिलक लगाएं|
  • माँ को लाल फूलों की माला भी अर्पित करें|
  • माँ के आगे घी का दीपक लगाएं और कपूर लौंग से उनकी आरती करें|
  • माँ को मिष्ठान व् चने, हलवा, पूरी का भी भोग लगाएं|
  • अब माँ को पूर्ण सत्कार आदर प्रेम के साथ विसर्जन के लिए लेकर जाएं|
  • किसी पवित्र नदी या सरोवर में माँ का विसर्जन करें|