Indian Festivals

सावन शिवरात्रि on 06 Aug 2021 (Friday)

क्या है श्रावण शिवरात्रि-

सावन का पवित्र महीना शुरू हो चुका है. श्रावण मास में पड़ने वाली शिवरात्रि के साथ ही त्योहारों की शुरुआत हो जाती है. श्रावण शिवरात्रि को हिंदू धर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना गया है. हर महीने में पड़ने वाली कृष्ण पक्ष चतुर्दशी तिथि के दिन मासिक शिवरात्रि मनाई जाती है. श्रावण मास और फाल्गुन मास में पड़ने वाली कृष्ण चतुर्दशी तिथि को शिवरात्रि विशेष रूप से महत्वपूर्ण मानी जाती है. फाल्गुन मास में पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के रूप में मनाया जाता है. मान्यताओं के अनुसार महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव और पार्वती का विवाह हुआ था. श्रावण महीने में पड़ने वाले सोमवार और श्रावण शिवरात्रि दोनों ही भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है. ऐसा माना जाता है कि श्रावण से सोमवार के दिन व्रत करके भोलेनाथ की पूजा करने से और शिवरात्रि के दिन श्रद्धा पूर्वक भोलेनाथ की आराधना करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैWhen is Shivratri 2021,  Savan Shivratri 2021 Date,  Shivratri Puja,  Importance of Shivaratri of Savan,  What is the significance of Shravan Shivaratri,  Shivrayri of Savan 2021 auspicious time,  Shravan Shivratri 2021,  the importance of Shivratri fast and the auspicious time of worship,  Savan Shivratri,  Savan Shivaratri fast,  Shravan Shivratri auspicious muhurt,सावन 2021, सावन शिवरात्रि, सावन शिवरात्रि कब की है, सावन की शिवरात्रि 2021, शिवरात्रि कब है 2021, सावन शिवरात्रि 2021, शिवरात्रि पूजा, सावन की शिवरात्रि का महत्व, श्रावण शिवरात्रि

श्रावण शिवरात्रि का महत्व

श्रावण शिवरात्रि के दिन भोलेनाथ की पूजा करने की परंपरा पुराने समय से चली रही है. मान्यताओं के अनुसार शिवरात्रि के दिन व्रत करके भोलेनाथ की पूजा करने से सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है. शास्त्रों में बताया गया है अगर कोई व्यक्ति पूरी श्रद्धा और आस्था के साथ श्रावण मास में पड़ने वाली शिवरात्रि के दिन भोलेनाथ की पूजा करता है तो उसकी कुंडली से सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं. इसके साथ ही उसके जीवन से धन की कमी भी दूर हो जाती है. ऐसा माना जाता है कि श्रावण मास में पड़ने वाली शिवरात्रि के दिन भगवान शिव की पूजा करने से वह बहुत जल्द प्रसन्न हो जाते हैं. अगर कोई भक्त सच्चे मन से श्रावण शिवरात्रि के दिन भोलेनाथ को जल अर्पित करता है तो उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है. श्रावण शिवरात्रि की पूजा करने से मनुष्य के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं. अगर कोई व्यक्ति श्रावण शिवरात्रि का व्रत करता है तो उसे मनचाहा वर या वधू प्राप्त होते हैं

॥ श्रीशिवपञ्चाक्षरस्तोत्रम् ॥